चाह

घडी़ की सुइयों सी चलती जिदंगी हर धूप हर छांव में ढलती […]

डर

यह डर ही तो है,जो सारे खेल रचाता है, यह डर ही […]

याद

कुछ तो बदल ही जाता है कोई भी पहले सा नहीं लगता […]

दुआ

हो रहा था ख्वाहिशों का बँटवारा मैंनें रहमत -ए-रब मांग ली।

मैं

हूँ भीड़ में शामिल मगर इसका हिस्सा नहीं ।

कीमत

नफरत ,बर्बादी के सिवा क्या देगी जो चीज खुद हो बुरी, वो […]

राम

इस माटी की दुनिया में डूबे हुए सारे है, कोई दौड़े, नगर […]

Check out our new collections