Tagged: nostaligic childhood

मेरे बचपन

आज सोचूँ तो लगता है, कि जैसे सपना ही था,
पर कैसे कर दूं पराया, हाय! वो बचपन अपना ही था ।