Tagged: hasrat

हसरत

कवि अशोक कुमार गुप्ता द्वारा रचित – कभी सारी दुनिया का साथ है बहुत भाता,
कभी खुद को भी भुलाने को जी चाहता है।